Monday, 7 January 2013

क्यों ऐसे हालात बन जाते हैं

क्यों  ऐसे  हालात बन  जाते  हैं 
तुझे  सोचते  हैं  और  ख्वाब  बन  जाते  हैं,
वोह  एक  नज़र  ही  कमाल  होती  हैं,
जिन्हें  देखें  वोह नायाब  बन  जाते  हैं 
होगा  कोई  बादशाह  किसी  सल्तनत  का,
तुझे  देखकर  सब  ग़ुलाम  बन  जाते  हैं 
कोई  बात  तो  है  तुझमे, 
ऐसे  ही  नही  किस्से  तमाम  बन  जाते  हैं 
रुख  से  पर्दा  ज़रा  कम  ही  हटाया  करो, 
इंसान  भी  यहाँ  शैतान  बन  जाते  हैं 
सुना  है  वोह  लोगों  को  अजमाते  हैं, 
हम  भी  कोई  इम्तेहान  बन  जाते  हैं 
'अरमान' ज़रा  संभलकर  चलना  इस  राह  पर, 
अच्छे  अच्छे  उनके ज़ुल्म का  शिकार  बन  जाते  हैं.
   
                                                    अरमान आसिफ इकबाल 

No comments:

Post a Comment