Saturday, 5 January 2013

पुराना नीम का दरख़्त


ये गली  ये  मोहल्ला  कुछ  जाना  सा  लगता  है,
ये  शहर  कुछ  पहचाना  सा  लगता  है
पर  कहाँ  गया  वोह  सालों  पुराना  नीम  का  दरख़्त,
जो  देता  था  छाया  हर  वक़्त,
आंधी आये,  तूफ़ान  आए कोई  उसको  हिला  न पाए
फिर  क्या  ऐसी  बात हुई, दुर्घटना उसके  साथ  हुई,
मेरा  एक  साथी  बोला, भूतकाल  का  चिटठा  खोला
जब  भी  गर्मी  आती  थी, हमको  बहुत  सताती  थी
हम  सब  यहाँ  आया  करते  थे, निम्कोली  खाया  करते  थे
उसकी शाखों से  खेला  करते  थे,
लकड़ी फ़ेंककर  पकड़ा-पकड़ी करते थे
अचानक  ज़माना  बदलने  लगा,
नयी  पीढ़ी  पर  बैट -बल्ले  का  जूनून  चढ़ने  लगा ,
उन्हें  पुराने  खेल  रास  नही  आते ,
नीम  की  लकड़ी  काट-काट  के  बल्ले  और  विकेट  बनाते
जो  प्रकृति  न  कर  सकी  वो  उन  लड़कों  ने  कर  दिया
बीच  मैदान  में  खड़े  उस  दरख़्त  की  जड़ों  में  तेजाब  भर  दिया
शायद  उनको  मैदान  से  उसे  हटाना  था
अपनी  सीमा  रेखा  को  आगे और  बढ़ाना  था
तेजाब  अपना  रंग  दिखने  लगा , हरा  भरा  दरख़्त  मुरझाने  लगा
कुछ  दिन  बाद  वो  सूख  गया , सर्दी  में कोई आके  उसे  फून्ख  गया
मैंने  पूछा  उसमे  से  कितने  खिलाडियों  का  नाम  हुआ
किसी  का  नेशनल  या  इंटरनेशनल  लेवल  पर  काम  हुआ
वो  बोला  ऐसा  भी  कहीं  होता  है
दुःख  देके  भी  कोई  चैन  से  सोता  है
हर  कोई  धोनी , विराट  सहवाग  नही  बन  जाता
सब  खिलाडी  बन  जाते  तो  उन्हें  पानी  कौन  पिलाता
कुछ  चला  रहे  ठेला , कुछ  लगा  रहे  ठेला
कोई  भी  नामाकूल  डिस्ट्रिक्ट  लेवल  पर  भी  नही  खेला  
अपना  मन्नू क्रिकेटर  भी  तपती धूप में  ठेला  लगाता है
अब  उसे  वही  पुराना  नीम  का  दरख़्त  याद  आता  है
मैंने  कहा  क्यों  उस  अदने  से  दरख़्त  के  लिए लड़ते फिरते हो
वोह  बोला  अगर  वो  सिर्फ  एक  दरख़्त  था  तो  तुम  उसे  क्यों  याद  करते  हो ..
                                                                              अरमान आसिफ इकबाल

No comments:

Post a Comment