Friday, 1 August 2014

मेरे दिल से खुद को निकालों तो जानूं

अपने दिल से मुझे निकाला, तो क्या बात हुई
मेरे दिल से खुद को निकालों तो जानूं
इश्क-ए-जहां में मैं तेरे लिए अजनबी सही
इस जिगर के मकान का मालिक मैं तुझे मानूं

कुछ इस तरह से तूने इस पर कब्जा किया है
हर पल सांसों ने जिंदगी से सौदा किया है
फिर कैसे तुझे अपनी मौत का सौदागर मानूं
मेरे दिल से खुद को निकालों तो जानूं

मेरा बनकर मेरे दिल में रहता है
हर दर-ओ-दीवार से कुछ कहता है
खुलेआम इजहार-ए-मोहब्बत करे तो मानूं
मेरे दिल से खुद को निकालों तो जानूं

कभी अपनी तहजीब को धोखा दे
होके बेपर्दा तमन्नाओं को एक मौका दे
मेरी तरह अपने भी 'अरमान' सजा तो मानूं
मेरे दिल से खुद को निकालों तो जानूं

11 comments:

  1. बहुत खूब अरमान साहब !

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद यश जी,,,

      Delete
  2. अपने दिल से मुझे निकाला, तो क्या बात हुई
    मेरे दिल से खुद को निकालों तो जानूं
    वाह .... बेहतरीन

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार अनुषा,,,

      Delete
  3. प्रेम के कुछ अनछुए पहलुओं को लेकर बुनी ग़ज़ल ... बहुत ही लाजवाब ...

    Recent Post …..विषम परिस्थितियों में छाप छोड़ता लेखन -- कविता रावत :)

    ReplyDelete
  4. प्रभावशाली अभिव्यक्ति अरमान जी ! बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार साधना जी

      Delete
  5. आपका ब्लॉग देखकर अच्छा लगा. अंतरजाल पर हिंदी समृधि के लिए किया जा रहा आपका प्रयास सराहनीय है. कृपया अपने ब्लॉग को “ब्लॉगप्रहरी:एग्रीगेटर व हिंदी सोशल नेटवर्क” से जोड़ कर अधिक से अधिक पाठकों तक पहुचाएं. ब्लॉगप्रहरी भारत का सबसे आधुनिक और सम्पूर्ण ब्लॉग मंच है. ब्लॉगप्रहरी ब्लॉग डायरेक्टरी, माइक्रो ब्लॉग, सोशल नेटवर्क, ब्लॉग रैंकिंग, एग्रीगेटर और ब्लॉग से आमदनी की सुविधाओं के साथ एक सम्पूर्ण मंच प्रदान करता है.
    अपने ब्लॉग को ब्लॉगप्रहरी से जोड़ने के लिए, यहाँ क्लिक करें http://www.blogprahari.com/add-your-blog अथवा पंजीयन करें http://www.blogprahari.com/signup .
    अतार्जाल पर हिंदी को समृद्ध और सशक्त बनाने की हमारी प्रतिबद्धता आपके सहयोग के बिना पूरी नहीं हो सकती.
    मोडरेटर
    ब्लॉगप्रहरी नेटवर्क

    ReplyDelete
  6. बहुत खूब ... हमारे दिल में कोई दूसरा कैसे कुछ कर सकता है ...
    अच्छा ख्याल ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार दिगंबर जी,,

      Delete