Friday, 11 July 2014

जो था अपना ग़ैर लगने लगा है

सबकुछ खामोश लगने लगा है
जो था अपना ग़ैर लगने लगा है
अब उनसे और क्या उम्मींद करें 'अरमान'
वक्त भी उसका गुलाम लगने लगा है

दीवार-ओ-दर क़ैदखाने हैं
जीने के तो सिर्फ़ बहाने हैं
ये चांद भी आग लगने लगा है
जो था अपना ग़ैर लगने लगा है

उम्मीद थे तुम, आरजू थे तुम
संग जीने की जुस्तजू थे तुम
                                         ख्यालों में बंदिशों का पहरा लगने लगा है
जो था अपना ग़ैर लगने लगा है

पल-पल का जिसे मेरा ख्याल था
बिन मेरे जीना जिसका मुहाल था
बेगानों सी बात करने लगा है
जो था अपना ग़ैर लगने लगा है....

5 comments:

  1. जो आपका है वो आपका ही रहेगा
    आपका अपना आपको जरूर मिलेगा

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी अनुषा आपने सही कहां, सभी को अपना ही मिलता है...सादर धन्यवाद

      Delete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  3. Replies
    1. तहे दिल से शुक्रिया परी जी..

      Delete